शनिवार, 2 मई 2015

कविता-१३१ : "सिंदूर..."


तेरी मांग में भरा था...
एक सिक्के से लाल सिंदूर
सिंदूर ही था...

कोई लक्ष्मण रेखा नहीं जो
बांधती तुझे हरदम
मर्यादाओ में...!!!
-----------------------------------------------------------

_________आपका अपना ‘अखिल जैन’_________

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें