सोमवार, 20 अप्रैल 2015

कविता-११८ : "एक ही मन..."

'गमन' और 'आगमन' 
दोनों शब्दों में अंत में 'मन' है
और ये मन ही है...

जो शायद !

गमन में पीड़ा
और आगमन में
देता है ख़ुशी...!!!



------------------------------------------------------------
_________आपका अपना ‘अखिल जैन’_________


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें