गुरुवार, 25 जून 2015

कविता-१८२ : "याद..."



हम

आते
है...

और !
हम
चले 
जाते
है...

पर !
जाने
वाले...

न 
वापिस
आते
है...

और
बहुत
याद
आते 
है...!!!
-------------------------------------------------------------
_________आपका अपना ‘अखिल जैन’_________

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें